पत्तनों की जीवन रेखा   निकर्षण प्रगति के लिए   समुद्री मार्गों के निर्माण में

डीसीआई का ध्येय :

इस देश के राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय समुद्री व्यापार की प्रोन्नति के लिए समेकित निकर्षण और संबंधित समुद्री सेवाओं, तट पोषण, भूमि उद्धार, अंतर्देशीय निकर्षण, पर्यावरण संरक्षण की व्यवस्था करना और निकर्षण क्षेत्र में विश्व स्तरीय प्रमुख संस्था बनना|

डीसीआई की दूरदर्शिता :

निम्नलिखित बिंदुओं पर दृष्टि केंद्रित करते हुए अभिप्रेरित निष्पादकों के दल के रूप में उभरना: 1) भारतीय निर्वाहगत निकर्षण विपण के 80% तक डीसीआई की हिस्सेदारी को प्रगामी रूप से बढ़ाने और भारतीय निर्माणगत निकर्षण विपण में हिस्सेदारी को बढ़ाने के द्वारा 2020 तक नव रत्न कम्पनी बनना| 2) समेकित निकर्षण सेवाओं की व्यवस्था करने में विश्व में अपने अस्तित्व को कायम रखना| 3) निगमित अभिशासन के उत्कृष्ट मानकों को अपनाना और अनुपालन करना|

महिलाओं द्वारा तैयार किए गए उत्पादों के लिए ऑनलाइन विपणन प्लैटफ़ार्म

काम के घंटों में जी.एस.टी. सहायता केंद्र : 0891-2871257 or (mrkrishna@dcil.co.in)

अ.प्र.नि. की ओर से

भारत में निकर्षण के क्षेत्र में अग्रणी उद्यम के रूप में डीसीआई का आविर्भाव हुआ| नई चुनौतियों का सामना करते हुए नये अवसरों की तलाश में डीसीआईएल को पत्तनों, समुद्री निर्माणों की निकर्षणगत अपेक्षाओं तथा परियोजना प्रबंधन परामर्श और उथले जलीय निकर्षण सेवाओं के अपने व्यापार को बढ़ाने के लिए निर्धारित किया गया है| हम एक समन्वयपूर्ण और धारणीय पद्धति में प्रौद्योगिकी और प्रबंधन नवीनता की प्रोन्नति के साथ-साथ डीसीआईएल के समग्र विकास के लिए प्रयास करेंगे| हम पत्तन संबद्ध समुद्री निर्माणों और राष्ट्रीय जलमार्गों के विकास के लिए नामोद्दिष्ट अभिकरण बनने के लिए भी प्रयास करेंगे| डीसीआईएल के लिए नवरत्न ओहदा साध्य करने के लिए हम अपने सभी प्रयास जारी रखेंगे| डीसीआईएल का दल इस निगम की लक्ष्य प्राप्ति हेतु सभी चुनौतियों का सामना करने के लिए भी कटिबद्ध है|
“वैज्ञानिक नवीनता, कुल प्रबंधन और संयोजन” नीति का अनुसरण करते हुए इस कम्पनी की प्रतियोगितात्मकता को सुधारने के लिए हम लगातार प्रयास करते रहेंगे| धारणीय विकास के परिप्रेक्ष्य में सामाजिक दायित्व की प्रोन्नति और पालन करने के लिए हम समर्पित हैं|

संदेश के लिए यहाँ क्लिक करें

समाचार और महत्वपूर्ण घटनाएँ

        मुम्बई के नौसेना क्षेत्रों में रु.30.76 करोड़ का संविदा डीसीआई ने हासिल किया।

        प्रधान कार्यालय में गणतंत्र दिवस 2018 समारोह।

        कोचि पत्तन में रु.88.51 करोड़ का संविदा डीसीआई ने हासिल किया।

        अवकाश प्राप्त कर्मचारियों के लिए भा.जी.बी.नि. संबंधी नामांकन प्रपत्र।

        नव वर्ष 2018 – अ.प्र.नि. का संदेश।

        डीसीआई लिमिटेड ने “थिंक” शीर्षक सृजनात्मक प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया है।

        निगमित सामाजिक दायित्व 2016-17

        दिनांक 18.03.2017 को श्री मनसुख मांडविया, माननीय मंत्रीजी ने प्रधान कार्यालय का संदर्शन किया।

        डीसीआई ने बंग्लादेश के पुस्सूर नौजलमार्ग में निकर्षण के लिए रु.102 करोड़ का अंतर्राष्ट्रीय संविदा हासिल किया|

        डीसीआई के अवकाश प्राप्त कर्मचारियों को स्वास्थ्य कार्डों की जारी|

        डीसीआई के अवकाश प्राप्त कर्मचारियों के लिए बाहरी-रोगी चिकित्सीय दावा फ़ार्म|

        डीसीआई के अवकाश प्राप्त कर्मचारियों की चिकित्सीय योजना|

        डीसीआई प्रस्तुतीकरण|

ड्रेजिंग कार्पोरेशन ऑफ़ इण्डिया लिमिटेड

ड्रेजिंग कार्पोरेशन ऑफ़ इण्डिया लिमिटेड का प्रधान कार्यालय व्यूहनीतिगत महत्त्वपूर्ण कारणों से भारत के पूर्वी तट के विशाखपट्‌नम में स्थित है। डी.सी.आई. महा और लघु पत्तनों, नौ-सेना, मात्स्यकी बंदरगाहों और अन्य समुद्री संगठनों के नौवहन जलमार्गों में वांछित गहराइयाँ निरंतर उपलब्ध कराने को सुनिश्चित करने में सहायक रहा है।

और देखें....


प्रेस विज्ञाप्तियाँ

21
जून

अंतर्राष्ट्रीय योगा दिवस

दिनांक 21.06.2017 को प्रधान कार्यालय में अंतर्राष्ट्रीय योगा दिवस मनाया गया|

11
अप्रैल

लड़कियों के लिए शौचालय

दिनांक 11.04.2017 को डीसीआई ने लड़कियों के लिए शौचालय निर्मित कर सौम्पे हैं।

03
फरवरी

डीसीआई अधिकारी समागम

दिनांक 03.02.2017 को डीसीआई अधिकारी समागम का मिलन समारोह

और देखें....

डीसीआईएल निवेशकों को देखें – शेयर बाजार

विक्रेता प्रशिक्षण और पंजीकरण

निगमित सामाजिक दायित्व

डीसीआई ड्रेज-21 का जलावतरण

यह ड्रेजिंग कार्पोरेशन ऑफ़ इण्डिया लिमिटेड (डीसीआई) के लिए सृजनात्मक जलयान है| यह समारोह डीसीआई के पूर्व अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक कप्तान डी.के.महान्ति की धर्मपत्नी, श्रीमती रीटा महान्ति, के हाथों सम्पन्न हुआ| डीसीआई ड्रेज-19 और डीसीआई ड्रेज-20 सहित तीन निकर्षकों की श्रृंखला में डीसीआई ड्रेज-21 तीसरा निकर्षक है और इसका निर्माण लॉयड्स रजिस्टर ऑफ़ शिप्पिंग और इण्डियन रजिस्टर ऑफ़ शिप्पिंग के दोहरे पर्यवेक्षण में किया गया|

संपर्क करें

निदेशक मण्डल

Copyright @ 2015 www.dredge-india.nic.in Last reviewed and updated on 10 Nov, 2017


पिछली बार दिनांक को समीक्षा और अद्यतन किया गया। 07.06.2017